ध्यान

जानिए भगवान शिव के किस ध्यान मंत्र से शिव के होंगे दर्शन?

ध्यान मंत्र

ध्यान मंत्र से शिव के होंगे दर्शन शिव का ध्यान जो की मोक्ष का एकमात्र रास्ता है !

शिव एकमात्र ऐसे देवता है ! जिनको प्रसन्न करने के लिए कोई भी कठोर जा मुश्किल तपस्या करने की जरूरत नहीं पड़ती

वह तो बस एक बेलपत्र चढ़ाने से ही प्रसन्न हो जाते है !

तभी तो देवता , राक्षश ,किन्नर, अघोरी आदि शिव की तपस्या करके उनसे मनचाहा वर प्राप्त करते है !

भगवान शिव को भोलेनाथ के रूप में भी पूजा जाता है!

उत्तर दिशा के क्षेत्र के लोग भगवान शिव को भोलेनाथ के नाम से भी पुकारते है !

शिव के दर्शन पाने से ही मात्र मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है !

लेकिन शिव के दर्शन पाने इतने आसान और सरल नहीं है इसके लिए बहुत ही कठोर और योगिक क्रिया करनी पड़ती है !

पढ़िए शिव के कैसे होंगे दर्शन?

वैसे तो शिव के दर्शन करने के लिए आप सुबह 4 से 5 बजे उठकर अच्छी तरह स्नान करके शिव के मंदिर जाकर शिवलिंग पर

दूध अर्पण करकर भगवान भोलेनाथ के दर्शन कर सकते हो !

लेकिन ये दर्शन अलौकिक और ध्यानमें दर्शन नहीं कहलाये जाएंगे !

अलौकिक और ध्यानमें दर्शन करने के लिए आपको योगिक ध्यान करना पड़ेगा !

जो की इतना सरल नहीं होता अगर अलौकिक और ध्यानमें दर्शन पाने है शिव के तो !

शिव के दर्शन पाने के लिए ये दो तरह के ध्यान मंत्र है

*योगिक ध्यान मंत्र
*नींद का ध्यान मंत्र

ये आपकी जिंदगी बदल देंगे और आपको शिव के अलोकिक दर्शन करवाएंगे !

ध्यान क्या है ?

ध्यान करना लोगो को सरल लगता है लेकिन वो ये क्रिया नहीं है जो सरल होती है वो तो बस अपने मन को संतुष्ट करने

के लिए हम इस शब्द का इस्तेमाल करते है !

ये तो वो है जो हमें पूरा ब्रह्माण्ड दिखाए और

हम दूसरी दुनिया में पहुंच जाए मतलब हमें अलौकिक आनंदित महसूस करवाए वो ध्यान है !

कैसे करे ये दो ध्यान मंत्र?

1)योगिक ध्यान मंत्र:

ध्यान

ये ध्यान भी वैसा है जो आप रोज नार्मल तरिके से करते है मतलब जो आप रोज करते है सुबह उठकर

लेकिन इसको जितना सरल तरिके से करेंगे उतना ही अच्छा है ये आपके आज्ञा चक्र को खोलता है

जिसका सीधा संबंद शिव से है !

पहले आप एक ऐसा स्थान ऐसी जगह चुनिए जहाँ पर केवल आप हो मतलब शांत माहौल हो

उसके बाद आप एक आसन पर बैठकर सीधा बैठ जाएँ और अपने दोनों हाथो को जांघों पर रखकर अपनी पीठ को सीधे रखलें

ये बात को दिमाग में रखिये की आपकी पीठ एकदम सीधी होनी चाहिए नहीं तो इस ध्यान का कोई फायदा नहीं होगा !

और इसके बाद आप ॐ मंत्र का उच्चारण करिये अपने मन ही मन ,

अपने पूरे मन को अपने आज्ञा मतलब अपने सर के विच वाले हिस्से में ले जाएँ

जैसे जैसे आपका ध्यान बढ़ता जाएगा आपको अलौकिक शक्तिओं का अहसास होता जायेगा !

ऐसा एक बार करने से नहीं होगा आपको लगातार करना होगा तभी आपका आज्ञा चक्र जागृत होगा और आपको भगवान शिव के दर्शन होंगे !

2)नींद का ध्यान मंत्र:

ध्यान

ये ध्यान बहुत ही आनंदमय और अलौकिक है !

ये आप अपनी नींद की मुद्रा में लेटकर कर सकते है !

लेकिन इसको करना इतना सरल नहीं है ये आपको प्रगाढ़ बेहोश (कोमा) में भी लेकर जा सकता है !

इसलिए इसको वोही करें जो योगिक क्रिया और ध्यानमय क्रिया को जानता हो !

इसको आप रात को सीधे लेटकर इसमें भी आपकी पीठ सीधी होनी चाहिए

और अपना सारा ध्यान आज्ञा चक्र में रखकर नींद की मुद्रा में करें !

ये आपको पूरे ब्रह्माण्ड के दिव्या और अलौकिक दर्शन करवाएगा

और अगर आप इसको हर रोज करते हो तो भगवान शिव आपके आज्ञा चक्र में स्थापित होकर आपको जरूर दर्शन देंगे !

Tagged

2 thoughts on “जानिए भगवान शिव के किस ध्यान मंत्र से शिव के होंगे दर्शन?

  1. मैं खुद शिवजी का बहुत बड़ा भक्त हूँ। मैं शिव पुराण कई बार पड़ी है। केदारनाथ दर्शन हर साल जाता हूँ। पर आज तक इतनी बेहतरीन जानकारी नहीं पड़ी। बहुत बहुत धन्यवाद आपका। कृपया और जानकारी भी मुझे मेल पर भेजते रहिये।

    1. प्रिय मित्र,

      आप मेरी इस पोस्ट को अपनी ब्लॉग पर गेस्ट पोस्ट dofollow लिंक की जगह इस्तेमाल कीजिए इससे सभी शिव भक्तों को अच्छी से अच्छी जानकारी मिल सके जानिए भगवान शिव के किस ध्यान मंत्र से शिव के होंगे दर्शन?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *