कहानी

हिमालय पर्वत क्यों है शिव का वास और हिमालय पर्वत कहानी!

हिमालय पर्वत क्यों है शिव का वास और हिमालय पर्वत कहानी!

क्या है हिमालय पर्वत की कहानी?

हिमालय पर्वत हजारो सालो से दक्षिण एशिया के लोगो के लिए काफी मायने रखता आया है!

जहा की संस्कृति , पौराणिक मान्यताओं और साहित्य में हिमालय एक तरह से रचा हुआ है !

हिमालय संस्कृत के दो शब्दों -” हिम “( बर्फ ) और ” ाल्या ” ( स्थल ) से मिलकर बना है- बर्फ का स्थलया यानि हिमालय!

प्राचीन काल से जहा हिमालय में हमारे साधु सन्यासिओ को अपनी तपोभूमि बनाने के लिए आकर्षित किया,

तो आज पर्वतरोही इसे एक चनौती के रूप में सलूट करते है !

हिमालय की खुबसुरती उसकी बिविधता में है !

जहा ऊँची ऊँची चोटिया,कई किमी लम्बे ग्लेसियर गहरायी वाली झीले

और ताजे पानी की नदिया और जीब जंतु व् पेड़ जड़ी बूटिया इसे प्राकृत चमत्कारी बनाती है !

कैसे 5 मिमी ऊपर उठ जाता है?

इंडियन प्लेट आज भी 65 मिमी की गति से गतिशील है !

इसी के फलस्बरूप हर साल हिमालय पर्वत की ऊंचाई औसतन पांच मिमी बढ़ जाती है !

1954 में माउंट एवेरेस्ट की जो ऊंचाई 8848 मीटर थी , उसमे अब 0.86 मीटर का इजाफा हो गया है !

कैसे बर्फ के मामले में तीसरे स्थान पर है?

अंटार्टिका और आकर्टिक के बाद सबसे ज्यादा बर्फ हिमालय पर्वत श्रृंखला में ही जमा है !

इसलिए इसे : “थर्ड पोल” भी कहते है !

जहा कम से काम 15 हजार विशालकाय ग्लेसियर है जिनमे गंगोत्री भी शामिल है !

हिमालय पर्वत किस दिशा में है और कितना विशाल है?

595000 बर्ग किमी क्षेत्र में फैला है हिमालय पर्वत!

लम्बाई में पछिम में पीओके से लेकर पूरब में तिब्बत तक करीब 2500 किमी तक है !

चौड़ाई विभिन जगहों पर 200 से 400 किमी तक है !

कैसे हुयी हिमालय पर्वत की उत्पत्ति?

आज जहा हिमालय है , वहां कभी टेथिस नाम का सागर हुआ करता था !

यह जुरासिक काल ( करीब 20 से 14.5 करोड़ साल पहले ) की बात है !

यह सागर दो विशाल भूखंडो से घिरा हुआ था !

एक तरफ यूरोशिया था तो दूसरी और गोडवानालैण्ड ( इंडियन प्लेट) !

ये दोनों भूखंड करोड़ो सालो में एक दूसरे की और गति करते गए !

उदर टेथिस सागर के पानी में गाद जमा होने लगी और पानी धीरे धीरे काम होता चला गया!

दो विरोधी दिशाओ से पड़ने वाले दबाब के कारण सागर में जमी मिटटी,गाद आदि

की परत भी ऊपर की और खिसकती चली गयी!

यह क्रिया निरंतर चलती रही और करीब ढाई करोड़ साल पहले इसी क्रिया के परिणामसबरूप हिमालय की पर्वत की उत्पत्ति हुयी!

भारत के क्षेत्र में हिमालय पर्वत कहा है?

यह हिमालय पर्वत के वह क्षेत्र है जो भारत में है !

9 राज्य और 2 केंद्र शाषित प्रदेश पूरी तरह हिमालय पर्वत क्षेत्र में स्थित है !

ये है : हिमाचल प्रदेश , उत्तराखंड , सिक्किम , अरुणाचल प्रदेश , नागालैंड , मणिपुर , मिजोरम , त्रिपुरा , मेघालय , जम्मू एबं कश्मीर तथा लद्दाक!

असम के दो जिले और पंचिम बंगाल का एक जिला भारतीय क्षेत्र में स्थित है !

हिमालय पर्वत किस दिशा में है?

हिमालय पर्वत श्रृंखला की 5 ऊँची चोटिया

माउंट एवरेस्ट- ऊंचाई 8848.86

के-2 – ऊंचाई 8611

कंचनयनघा – ऊंचाई 8586

ल्होत्से– ऊंचाई 8516

मकालू – ऊंचाई 8463

क्यों हिमालय पर्वत में जीब जंतु और वनस्पतिया अब खतरे में है ?

जीब जंतु : हिमालय के ऊपरी भागो में स्नो लेपर्ड ( बर्फीला तेंदुआ ) पाया जाता है !

इनकी संख्या लगातार काम होती जा रही है !

इसका मुख्या शिकार होते है पहाड़ी भेड़ ” भारल ” जिसे ब्लू शिप भी कहते है !

किसी समय यहाँ हिमालयन कस्तूरी मृग भी पाए जाते थे ,

लेकिन भिविन कारणों से अब इनकी संख्या काम हो गयी है !

इसी तरह हिमालयन ताहर , ब्राउन बेयर ( भूरा भालू ) , रेड पांडा , लंगूर जैसे प्राणी भी अब अस्तित्व बचाने के संकट से जूझ रहे है !

वनस्पतिया : हिमालय की वनस्पतिया भारतीय उपमहाद्वीप में जलवायु मानवीय समाज के लिए बहुत महत्वपूर्ण है !

लेकिन जलवायु परिवर्तन , पर्यावण में बदलाब और मानवीय गतिविदियों की वजह से जहा की साड़ी वनस्पति भी खतरे में है !

कई वनस्पतिया जो पहले  हिमालय के निचले स्थानों में पायी जाती थी,

बह अब अपेक्षाकृत ऊंचाई वाले स्थानों पर ही पायी जाने लगी है !

जूनिपेरस टिबेटिका 4900 मीटर की ऊंचाई पर पायी जाती है !

हिमालय पर्वत क्यों है शिव का वास?

हिमालय पर्वत क्षेत्र की सबसे प्रमुख झील है मानसरोवर जो शिव का वास कैलाश पर्वत के पास 420 वर्ग किमी में फैली हुयी है !

कैलाश पर्वत हिन्दू , जैन , बोध धर्म का प्रतीक है!

हिन्दू धर्म के अनुसार भगवान शिव अपने परिवार के साथ कैलाश पर्वत पर वास करते है !

भगवान् शिव को कैलाश पर्वत वहुत प्रिय है!

इसकी श्रंखलाओ में शिव का वास कई स्थानों में है,

कैलाश पर्वत के इलावा भगवान्  शिव मणि महेश , ॐ पर्वत , किन्नौर कैलाश , श्रीखंड महादेव आदि पर्वत में शिव वास करते है !

कैलाश पर्वत, तिब्बत (चीन) में स्थित है!

मणि महेश, चम्बा (हिमाचल प्रदेश) में स्थित है !

ॐ पर्वत, पिथौरगढ़ (उत्तराखंड) में स्थित है !

किन्नौर कैलाश, किन्नौर (हिमाचल प्रदेश) में स्थित है !

श्रीखंड महादेव, कुल्लू (हिमाचल प्रदेश) में स्थित है !

इसके इलावा इसमें अनेक देवी देवताओ का निवास स्थान है!

Conclusion:

ऊपर हमने शिव का वास हिमालय पर्वत के बिषय में दर्शाया है,

की एशिया के लोगो के मन में हिमालय पर्वत के लिए काफी आस्था है और इसने हमें काफी कुछ प्रदान किया है!

 

 

 

Tagged

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *