ज्ञान की बात

भूल कर भी बातचीत में नहीं करे ये 4 गलतियां !

गलतियां

भूल कर भी बातचीत में नहीं करे ये गलतियां

लोग हमेशा बातचीत में काफी गलतियां कर जाते है !

बातचीत से दुसरो को कैसे प्रभावित करे और ऐसा क्या कहें जिससे दूसरे हमेशा आपको याद रखे !

जिससे सामने वाला उनके प्रति अच्छे और समझदार विचारो वाला नहीं समझता !

लोग हमेशा बातचीत करते समय जल्दबाजी और समझदारी नहीं दिखाते !

उनके इन नपरभावी बोलने की कला उनके लिए काफी नुकसानदेय बल्कि बेइज्जत होने वाली होती है !

लोग हमेशा बातचीत करने पर गलतियां पर गलतियाँ करते रहते है !

जो लोग बातचीत करने वाले होते है वो इन गलतिओ को नहीं करते और हमेशा तरक्की की राह पर चलते है !

ये है वो 4 गलतियां यो बातचीत में नहीं करनी चाहिए

1.सही ” क्लोजिंग स्टेटमेंट ” नहीं देना 

किसी भी मीटिंग के अंत में या किसी के घर के बाहर निकलते हुए

यदि आप कोई क्लोजिंग स्टेटमेंट नहीं देते ,

जैसे की मजा आ गया , बहुत अच्छा था  या आज का दिन बहुत बढ़िया गया तो सामने वाले को लगता है

की उसे महत्व नहीं दिया गया या उसने जो भी आपके लिए किया , वह सही नहीं था !

यदि आप सबके पसंदीदा बनना चाहते है तो अपने क्लोजिंग स्टेटमेंट में व्यक्ति या वस्तु की तारीफ जरूर करे ,

भविष्य के लिए कुछ कहें या कोई योजना बताये !

2.किसी से बात करते वक्त फ़ोन पर लगे रहना

कोई समय निकालकर आपसे मिलने आया और आप उसे सामने बिठाकर उस वक्त अपने फ़ोन पर लगे हुए हो

तो सामने वाला ये सोचेगा की आपसे मिलने जाने से अच्छा तो यह था की फ़ोन पर ही बात कर ली जाती !

उसको अपने भीतर महत्वहीन होने का बोध होगा !

याद रखे , सामने बैठा हुआ व्यक्ति सबसे महत्वपूर्ण है !

यदि कोई जरूरी फ़ोन जा मैसेज करना पड़ जाए तो सामने वाले को बताकर करे

जिससे सामने वाले को महत्वपूर्ण लगा रहे !

3.जाने या अनजाने में निंदा करके गलतियां करनी

इसे हम एक उदाहरण से समझते है !

कोई नयी गाडी लेकर आया और गाडी को देखकर

उसकी तारीफ करने की बजाए आपने गाडी के रंग पर कोई टिप्पणी कर दी !

सोचिये , इससे सामने वाले के मन को कितनी ठेस पहुंचेगी !

आपको तो लगेगा की आपने तो ईमानदारी से राय दे दी ,

लेकिन क्या उस राय की जरुरत थी ?

क्या किसी ने आपसे राय मांगी थी ?

याद रखे , जब तक कोई सलाह न मांगे , उसे सलाह मत दो !

जब तक कोई खुद गलती ढूंढ़ने के लिए दबाव न बनाये , निवेदन न करे ,

तब तक गलती मत ढूँढो और न ही निंदा करो !

4.बहुत छोटे या एक शब्द में ही उत्तर देना

जब सामने वाला आपमें रूचि दिखाकर आपसे बहुत बाते करता है ,

पर आप उसे एक शब्द में ही उत्तर देते है तो इससे उसे अपमानित महसूस होता है !

इससे बातचीत आगे नहीं बढ़ती !

यह आप बिजनेस या आफिस में मातहत के साथ करे तो चल सकता है ,

लेकिन सामाजिक दायरे में इससे आप अलोकप्रिय होते चले जाते है !

जिस प्रकार ज्यादा बोलना नुकसानदेह है , उसी प्रकार बहुत काम बोलना भी !

इससे सामने वाले को लगता है की उसको महत्व ही नहीं दिया गया !

ऐसा करने से लोग आपके वारे में नकारात्मक राये बना लेते है !

इसलिए लोगो के साथ बातचीत में पूरी तरह शामिल होइए !

 

Tagged

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *