कहानी

अमरनाथ की गुफा!जहाँ पर बेजुवान भी बोल पड़ते है जानिए कहानी

अमरनाथ की गुफा

अमरनाथ की गुफा जम्मू और कश्मीर में स्थित

हिंदुओं के लिए सबसे प्रसिद्ध तीर्थ स्थलों में से एक है !

लंबे समय से पुराने समय से फैले हुए लंबे इतिहास के साथ,

मई से अगस्त तक सिर्फ चार महीनों में,

मौसम के दौरान गुफा लाखों लोगों को आकर्षित करती है !

अमरनाथ गुफा 3,888 मीटर (12,756 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है

और श्रीनगर से गुफा का मार्ग पहलगाम शहर से होकर 141 किलोमीटर तक फैला हुआ है !

अमरनाथ की गुफा ! जहाँ बेजुबान भी बोल पड़ते है

हिन्दू धर्म में भगवान शिव के कई महत्ब्पूर्ण और आस्था भरे मंदिर है !

लेकिन अमरनाथ गुफा का रहस्य सबसे अलग और आश्चर्य यानिक है,

क्युकी जहाँ पर जो आता है उसे भगवान भोलेनाथ खाली हाथ नहीं भेजते,

और उसकी हर मनोकामना पूर्ण करते है !

और यही से शुरू होती है सच्ची और आश्चर्य करने वाली कहानी,

जिसे पढ़कर आपकी शिव के प्रति श्रद्धा और अमरनाथ जाने की उत्सुकता और बढ़ जाएगी !

कहानी इस प्रकार है

एक नगर में एक व्यक्ति रहता था जिसकी एक पुत्री थी!

जिसकी आयु 12 वर्ष की थी पर वो अभी तक बोल नहीं पाती थी !

यह चिंता उस व्यक्ति को अंदर ही अंदर परेशान कर रही थी !

उसने अपनी पुत्री को बुलबाने की हर कोशिश की,

जैसे उसने बड़े से बड़े हर वैद को दिखाया और जैसे लोग कहते थे,

की इसको तोते का झूठन खिलाओ जा अपने मामा

के हाथ से बादाम खिलवाने तक के सारे उपाए किये !

वो जहाँ भी जाता था अपनी इस परेशानी के बारे में हर किसी से चर्चा करता रहता था !

और इस परेशानी का हल पूछता रहता था !

जब उसे इस परेशानी का कोई रास्ता न मिला तो,

एक दिन उसके जहाँ एक पहुंचे हुए सिद्ध बाबा पुरुष भिक्षा मांगने के लिए उसके घर आये,

तो उस व्यक्ति ने सिद्ध बाबा को भिक्षा दी तो बाबा ने उसे पूछा की तुम इतने परेशान क्यों हो !

उसने फिर बाबा को अपनी सारी परेशानी बताई और उसका समाधान पूछा !

उसकी परेशानी सुनने के बाद सिद्ध बाबा ने कहा अगर तुम इस परेशानी का हल चाहते हो,

तो मैं तुम्हे एक उपाए बताता हु !

सिद्ध बाबा के उपाऊ का असर :

सिद्ध बाबा ने बताया के अपनी पुत्री को भगवान शिव के सभी शिवलिंगो के दर्शन कराओ !

इतना सुनकर उस व्यक्ति ने तय किया

की वह अपनी पुत्री को सभी शिवलिंगो के दर्शन जरूर करवाएगा !

और वो अगली ही सुबह अपनी पुत्री को लेकर यात्रा के लिए निकल पड़ा !

सबसे पहले उस व्यक्ति ने भगवान शिव के सोमनाथ ज्योत्रिलिंग के दर्शन किये,

और ऐसे ही भगवान शिव का नाम लेकर आगे बढ़ता चला,

और जैसे जैसे वो आगे बढ़ता जा रहा था उसके मन में अपनी पुत्री के बोलने का विश्वास बढ़ने लगा !

12 ज्योत्रिलिंगो

के दर्शन करने बाद फिर वो व्यक्ति अपनी पुत्री के साथ
पवित्र अमरनाथ की गुफा के दर्शन करने पहुंचा,
जहाँ पर हर जगह “बाबा बर्फानी” के जयकारे लग रहे थे !

बाबा बर्फानी के जयकारे सुनकर केवल उस व्यक्ति का नहीं

बल्कि उसकी पुत्री का उत्साह और मनोवल भी बढ़ रहा था !

और वो आगे बढ़ते जा रहे थे जैसे ही वह गुफा में पहुंचे !
उन्होंने भगवान बाबा बर्फानी को प्रणाम किया,
और मन ही मन अपनी परेशानी शिव को कहने लगे !
जैसे ही उन दोनों की प्राथना स्वीकार हुयी,तब अचानक उस व्यक्ति की 12 वर्षीय पुत्री ने,
सभी शिव भक्तो के साथ हाथ ऊपर उठाकर जय
बाबा बर्फानी का जयकारा अपने मुँह से लगाने लगी !
और जैसे ही वो जयकारा लगाने लगी उसकी आवाज और बुलंद होती गयी !
जिसे देखकर उस पुत्री के पिता की आँखों में से खुशी के आंसू निकल आये,

और वो व्यक्ति भगवान बाबा बर्फानी को हाथ जोड़कर प्रणाम करने लगा!

और कहने लगा की जैसा चमत्कार आज मेरे साथ हुआ है,

ऐसा ही चमत्कार आप सभी भक्तो के साथ करे और उसने ये निश्चय किया,

की वे हर साल अपनी पुत्री को लेकर भगवान अमरनाथ

के दर्शन करने अमरनाथ गुफा जरूर दर्शन करने आया करेगा !

और उसने अपने नगर में जाकर सभी नगरवासिओ को इस चत्मकार के बारे में बतया !

और उनको भी अमरनाथ गुफा के दर्शन करने के लिया कहा !

जिस प्रकार बाबा बर्फानी ने उस व्यक्ति की मनोकामना पूर्ण की,

इस प्रकार जो कोई भी सच्ची श्रद्धा के साथ अमरनाथ गुफा के दर्शन करता है,

उसकी सभी मनोकामनाएं बाबा बर्फानी जरूर पूर्ण करते है !

इसलिए मैं आप सभी को बाबा बर्फानी ( अमरनाथ ) के दर्शन करने के लिए कहूंगा,

अगर आपके साथ भी इस प्रकार का कोई चमत्कार हुआ है,

तो आप मुझे निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते है!

ताकि मैं आपकी सच्ची कहानी लोगो तक पहुचाऊं

और भगवान शिव के चमत्कारी कहानिओ को लोगो तक पहुंचा सकूँ,

ताकि मैं हिन्दू धर्म के देवी देवताओ की कथाओ को प्रचलित कर सकूँ !

Tagged

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *