त्यौहार

2021 में कोरोनावायरस के चलते होली कैसे मनाये?

2021 में कोरोनावायरस के चलते होली कैसे मनाये?

हम होली क्यों मनाते हैं?

भारत वर्ष एक ऐसा देश है जहा कई तरह के त्यौहार मनाये जाते है, जिसमे से एक होली का त्यौहार भी है रंगो भरा!

हिंदू धर्म के अनुसार होली फाल्गुन के महीने मनाई जाती है।

ये हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है इस दिन लोग सारे गीले शिकवे षोड़कर एक दूसरे से रंग लगाकर ख़ुशी मनाते है!

इस दिन लोग आपस में रंग और पानी फैंकते है उर एक दूसरे को होली की बधाई देते हैं!

बच्चे, जवान और बूढ़े सब इस त्योहार में मस्ती, गाना और डांस करते हैं,

ढोल और लाउडस्पिकर में ज़ोर ज़ोर से गाने बजाते हैं और डांस करते हैं!

हिन्दू धर्म के अन्य त्यौहारों की तरह इस त्योहार भी पौराणिक और सांस्कृतिक है!

इसको मनाने के एक रात पहले होली को जलाया जाता है।

इसके पीछे एक पौराणिक कथा है जिसके अनुसार होली से हिरण्यकश्यप की कहानी जुड़ी है।

होलिका दहन क्यों मनाया जाता है? और इसे मानने का ऐतिहासिक कारण:

होलिका दहन क्यों मनाया जाता है?

हिन्दू कथाओ के अनुसार हिरण्यकश्यप जो की प्रहलाद का पिता था,

बह नास्तिक था और परलाद भगवान विष्णु का भक्त था!

हिरण्यकश्यप अपने बेटे परलाद से घृणा करता था क्युकी प्रहलाद भगवान् विष्णु का नाम हमेशा जपता रहता था!

इस कथा के अनुसार जब हिरण्यकश्यप ने प्रहलाद को पहाड़ से निचे गिराया,

तो भगवन विष्णु ने प्रहलाद को कीड़ी का रूप में बना दिया जिससे प्रहलाद बच गया!

हिरण्यकश्यप की एक बहन थी जिसका नाम होलिका था,

होलिका ने अग्नि देव की तपस्या करके अग्नि से न जलने का वरदान प्राप्त किया था!

हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका की गोद में प्रहलाद को बिठाकर अग्नि में बिठा दिया,

क्योंकि प्रहलाद भगवान विष्णु बहुत बड़ा भक्त था और हर समय विष्णु भगवान को पुकारता रहता था!

विष्णु ने भक्त प्रहलाद की पुकार सुनी और उसको सुरछा कवच प्रदान किया,

जिससे होलिका जल कर राख हो गयी परन्तु प्रहलाद बच गए!

इस लिए होली के त्यौहार को होलिका दहन के नाम से जाना जाता है,

होलिका के भस्म होने के बाद भगवान विष्णु ने हिरण्यकश्यप का वध कर दिया!

इस लिए भारत के कुछ राज्यों में होली से एक दिन पहले होलिका जलाई जाती है!

होली का त्योहार किस प्रकार मनाया जाता है?

भारत में वैसे तो हम लोग हर त्यौहार बड़े धूम धाम से मनाते है,

मगर होली का त्यौहार सबसे अलग और सबसे मजेदार होता है,

हम इस दिन काफी उत्साह भरे होते है,

अपने सगे सबन्दी अपने दोस्त इस दिन सभी अपने काम काज भूल कर सभी होली का त्यौहार मनाने इकठे हो जाते है!

इस दिन दुश्मन भी दोस्त बन जाते है,

क्युकी रंगो का त्यौहार है तो सभी लोग इकठे होकर इसे मनाते है।

हम एक दूसरे को लाल पीला हरा नीला रंग लगाते है हम होली का त्योहार बड़े ही उत्साह से मानते है!

लोग एक दूसरे को रंग लगाते है रंग भरा पानी एक दूसरे पर फेंकते है,

बच्चे पिचकारी से रंग भरा पानी एक दूसरे पर फेंकते है,

गाना होता है,भांग पी जाती है, नाच होता है!

और रंग बरसे भीगे चुनर वाली गाने पर और बलम पिचकारी जो तूने मुझे मारी गाने पर नाच होता है!

बड़े बड़े शहरों में तो बड़े बड़े आयोजन होते है लोग एक जगह एकत्रित हो जाते है,

बड़ी संख्या में और रंग भरे इस आयोजन में नाच गाना होता है जिससे लोग काफी मनोरंजन का आनंद लेते है!

होली कैसे मनाई जाती है?

होली कैसे मनाई जाती है?

वैसे तो अब होली का त्यौहार वैसे नहीं रहा जैसे पहले ज़माने के लोग मनाते थे!

रंग तो लोग लगाते है पर अब वो रंग नहीं रहे जो होने चाहिए,

अब जो रंग आते है वो केमिकल रंग होते है जिससे हमारी जा हमारे बच्चो की त्वचा ख़राब हो सकती है!

इसलिए अब होली कैसे मनाई जाती है  इस पर लोगो को विचार करना चाहिए,

हमें रंगो का इस्तेमाल सोच समज कर करना चाहिए,

मतलब कम से कम करना चाहिए,

हमें पानी का भी इस्तेमाल भी कम से कम करना चाहिए,

जिससे हमारे पानी की बचत हो सके!

हमें रंगो को षोड़कर फूलो की होली खेलनी चाहिए,

जिससे पानी और केमिकल वाले रंगो का इस्तेमाल न हो सके!

2021 में कोरोनावायरस के चलते होली कैसे मनाये?

tilak

इस बार होली 28 मार्च 2021 को है!

हम 2021 में कोरोनावायरस के चलते होली अपने घर पर अपने परिवार के साथ मनाये,

जिससे हम इस कोरोनावायरस महामारी से बच सकते है और दुसरो को भी इस कोरोनावायरस महामारी से बचा सकते है!

हम अपने घर में ही हल्दी और कुमकुम के साथ तिलक लगाए,

और फूलो की होली अपने परिवार के साथ अपने घर में ही खेले क्युकी कृष्ण भगवान ने भी होली फूलो के साथ खेली थी!

अगर हम अपने सगे सबंदीओ के साथ होली मनाना भी चाहते है ,

तो उनको शगुन का तिलक लगाकर त्यौहार की मर्यादा को पूरा करे ,

और इस प्रक्रिया से अपने परिवार और सगे सबंदीओ को कोरोनावायरस महामारी से सुरक्षित रखे!

Conclusion:

हमने ऊपर इस विषय में चर्चा की है की कोरोनावायरस महामारी में सुरक्षित रह कर होली का रंग भरा त्यौहार कैसे मनाया जाये,

जिससे हमारा परिवार और हम और आस पास के लोग कैसे सुरक्षित रह कर ये त्यौहार मना सकते है,

जिसमे फूलो की होली और एक छोटे से तिलक को लगाकर भी हम इस त्यौहार को और मनोरंजक और उत्साह भरा बना सकते है!

 

Tagged

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *